विजन

भारतीय मूल के प्रत्येक प्रवासी (परप्रांतीय) / अप्रवासी की सुरक्षा, सम्मान व समान अधिकार की चिन्ता के साथ उन प्रवासियों / अप्रवासियों के परिजनों को एक दूसरे से मिलाना जिनका परिवार विदेशो में भारतीय तो हैं पर भारत देश में उनका परिवार कौन है उनकी सम्पति कहा है / तथा उन पर हो रहे अत्याचारों के लिए भारत देश के प्रवासी मंत्रालय से सहायता के लिए आवाज उठाना, और खास तौर से अत्यधिक संख्या में रह रहे पूर्वांचली, उत्तरांचली, आसामी, ओडिया, मणिपुरी, अरुणांचली, कर्णाटक इत्यादि प्रदेश के प्रवासियों / अप्रवासियों के लिए, शिक्षा, धार्मिक, सांस्कृतिक, सामाजिक सहयोग करना एवं उन्हे रोजगार दिलाना व् भारत देश के प्रत्येक गरीब मजदूर व्यक्ति का उत्थान करना |
इसलिए आज भारतीय प्रवासी परिषद् का गठन कर जातिवाद व् प्रांतवाद के भेदभाव को खत्म कर देश की संस्कृति, अखंडता, परम्परा “अतिथि देवो भवः” और वासी + प्रवासी + अप्रवासी की एकता तथा भाईचारे को मजबूत करने का प्रयास प्रत्येक देश – प्रदेश में किया जा रहा है |

भारतीय प्रवासी परिषद के उद्देश्य / कार्य

  • भारत के प्रत्येक राज्य के गरीब बच्चों व मजदूरों व बुजुर्गों / विकलांगो के लिए उचित शिक्षा व आश्रम की व्यवस्था | स्कूल /
    अस्पताल एवं उचित दवाइयों / किताबो का प्रबंध करना, प्रशिक्षण कराना व् उनके उत्थान के लिए राज्य व केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना ।
  • भारत के प्रत्येक राज्य में गौशाला का निर्माण व गौरक्षा के लिए राज्य व केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना |
  • भारत के प्रत्येक राज्य में प्रत्येक धर्म को महत्व देना, धार्मिक स्थल बनाना व उनके धार्मिक स्थलों के निर्माण में राज्य व केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना।
  • भारत के प्रत्येक राज्य में भ्रूण हत्या का विरोध करना एवं बेटी बचाओ / बेटी पढ़ाओ अभियान चलाना व महिलाओं / छात्राओं के लिए उचित स्थान पर सुलभ शौचालय का निर्माण करना व् राज्य और केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना।
  • भारत के प्रत्येक राज्य में समय समय पर प्राकृतिक आपदा में सहयोग करना व् राज्य और केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना।
  • भारत के प्रत्येक राज्य में सड़क दुर्घटना के रोकथाम के लिए समय समय पर सुरक्षा अभियान चलाना एवं यातायात के नियमो के प्रति सचेत करना तथा राज्य और केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना।
  • भारत के प्रत्येक राज्य में भारतीय प्रवासी (परप्रांतीय) व स्थानीयवासी लोगों में एकता व भाईचारे को बनाये रखने के लिए सभा का आयोजन करना।उनके उत्थान के लिए राज्य व केंद्र सरकार से सहयोग के लिएसंघर्षकरना।
  • भारत के प्रत्येक राज्य में भारतीय प्रवासी परिषद के संगठन / एकता / भाईचारे को मजबूत करने के लिए सही पदाधिकारियों का चुनाव करना व समय समय पर सदस्यता अभियान चलना |
  • भारत के प्रत्येक राज्य में उचित सामाजिक कार्य और देश / प्रदेश के विकास के लिए संघर्ष करने वाली राजनितिक पार्टीया संस्था का सहयोग करना व भारतीय प्रवासियों (परप्रांतीयो) / अप्रवासियो के अधिकार और सम्मान व् स्वाभिमान व् उत्थान के लिए संघर्ष करना |
  • भारतीय प्रवासियों (परप्रांतीयो) / अप्रवासियो जो भारत देश व् विदेशो में रह रहे है उनकी सुरक्षा, सुविधाव् सम्मान के लिए निरंतर केंद्र सरकार से प्रवासी (परप्रांतीय) / विदेश मंत्रालय द्वारा सहयोग के लिए संघर्ष करना |
  • भारत के प्रत्येक राज्य में प्रवासी (परप्रांतीय) वेलफेयर एंड प्रोटेक्टशन बिल के लिए केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना ।
  • भारत के प्रत्येक राज्य में प्रवासी (परप्रांतीय) व्यापारियों / कर्मचारियों को संरक्षण एवं सुरक्षा दिलाना तथा उनके उत्थान के लिए राज्य व केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना |
  • भारत के प्रत्येक राज्य में प्रवासी (परप्रांतीय) समाचार, प्रवासी (परप्रांतीय) खबर, प्रवासी (परप्रांतीय) जागरण, प्रवासी (परप्रांतीय) कल्याण, समाचार पत्र एवं पत्रिका का वितरण करना और टीवी चैनल्स, पोर्टल्स चलाने के लिए राज्य और केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना |
  • भारत के प्रत्येक राज्य में भारतीय प्रवासी परिषद द्धारा खेलकूद व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन कर नावमेधावी व्यक्तियों को पुरस्कार वितरण करना |
  • भारत के प्रत्येक राज्य में पर्यावरण एवं वन्य जीवन, पौधारोपण अभियान चलाना | और राज्य और केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना|
  • भारत के प्रत्येक राज्य में स्वास्थ के लिए समय समय पर जागरूक करना एवं अभियान चलाना एवं दवा वितरण करना |
  • भारत के प्रत्येक राज्य की नदियों की सफाई और रख रखाव के लिए अभियान चलाना और राज्य और केंद्र सरकार से सहयोग के लिए संघर्ष करना |