Why You Should Volunteer ?

भारतीय प्रवासी परिषद का सदस्य / पदाधिकारी क्यों बनना चाहिए, इस पर नीचे कुछ महत्वपूर्ण बिंदु दिए गए हैं:
1. स्वयं को परिषद का सदस्य / पदाधिकारी के रूप में दर्ज करके, आप राष्ट्र को एकजुट करने और जातिवाद, प्रांतवाद/क्षेत्रवाद या धर्म के आधार पर भेदभाव को खत्म करने व देश की अखंडता में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकते है।
2. जैसे ही आप परिषद का सदस्य / पदाधिकारी के रूप में पंजीकरण करते हैं, आप पुरे देश व विदेश के सभी मौजूदा सदस्यों और परिषद के उच्च पदाधिकारियों से जुड़ सकते है।
3. परिषद के सदस्य / पदाधिकारी के रूप में, आप अपने क्षेत्र में आप अपने  जहा भी रह रहे हो| प्रवासियों / अप्रवासियो के समूह से जुड़े होते हैं, और आप खुद को अपने गृहनगर से दूर होने पर भी समुदाय का एक हिस्सा महसूस करते हैं। इसके अलावा, आपके पास बहुत से राजनीतिक नेता और सामाजिक कार्यकर्ता आपके साथ जुड़ने की कोशिश कर सकते है क्योंकि आप बहुसंख्यक हो जाते है |
4. किसी भी राज्य में ज्यादा कार्यकर्ताओं के समूह एवं समर्थन प्राप्त सदस्य, स्वयं को भारतीय प्रावासी परिषद के पद के लिए आवेदन दे सकते है। प्रदेश अध्यक्ष का चयन आंतरिक चुनाव के सहयोग से किया जाएगा ।
5. भारतीय प्रवासी परिषद का केंद्रीय विभाग आपको क्षेत्रीय कार्यालय, वेतन और दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों के लिए अन्य बुनियादी सुविधाएं प्रदान करता है यदि प्रदेश अध्यक्ष द्वारा उस राज्य में लगभग 2 लाख सदस्य तैयार कर दिया जाता है | ताकि आप अपनी आम जरूरतों को पूरा कर सके तथा आपके क्षेत्र में परिषद के दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को बिना किसी परेशानी के पूरा कर सके ।
6. परिषद से जुड़ने से आप देश विदेश में किसी भी स्थान पर अपने आप को संगठित / सुरक्षित महसूस करेंगे और किसी भी विपत्ति या कार्यक्रम में एक दुसरे का परस्पर सहयोग करेंगे |
7. परिषद के सदस्यों / पदाधिकारियों को केन्द्रीय पदाधिकारी द्वारा रोजगार, व्यापार एवं भारत सरकार द्वारा दी गई योजनायें भी प्राप्त हो सकती है |
8. भारतीय प्रवासी परिषद का प्रत्येक कार्यकर्ता भारत देश के प्रत्येक राज्य में रह रहे प्रवासियों की सुरक्षा व् विदेश में रह रहे अप्रवासियो सम्मान एवं समान अधिकार के लिए नेतृत्व कर सकता है |
9. विदेश में रह रहे प्रवासी/अप्रवासी भारतीय नागरिक के लिए नेतृत्व कर, वहाँ की समस्याओं का समाधान भारतीय प्रवासी परिषद या भारत सरकार के प्रवासी मंत्रालय से जुड़कर समस्या का समाधान करा सकता है |
10. आपके द्वारा दिये गये सदस्यता शुल्क से गरीब व जरूरतमंद महिलाओं को संगठित  कर स्वरोजगार ( कटींग, टेलरिंग, पंटिंग, ब्यूटिशियन, कंप्यूटर आदि | ) प्रदान करना व ब्लड डोनेशन कैम्प, रोड सेफ्टी कार्यक्रम , नेत्र चिकित्सा कार्यक्रम एवम् स्वच्छता अभियान चलाना व महिलओं को स्वावलंबी बनाना परिषद् का मुख्य उद्देश्य हैं| और जिस राज्य में 2 लाख सदस्य बन जाएगे उस राज्य से लगभग 200 गरीब (विकलांगो / मुखवाह व अन्य) छात्रों को कक्षा एक से कक्षा आठ तक परिषद् द्वारा स्कूल फ़ीस, ड्रेस, एवं अन्य सुविधा प्रदान की जएगी |
11. परिषद में 6 माह पुराने सदस्य होने पर भारत देश के किसी भी राज्य में यदि आपको किसी कारणवश रक्त की जरूरत पड़ती है तो आपके ID No. पर निशुल्क एक युनिट रक्त प्रदान किया  जाएगा | इस सुविधा की वैधत्ता रजिस्ट्रेशन तारीख से 18 महीने तक वैध होंगी |
12. परिषद में प्रवासियों की सदस्यता बढाने में यदि कोई सदस्य / कार्यकर्ता / पदाधिकारी लगभग 1000 सदस्य जोड़ने का कार्य करता / करती है |  तो उसे परिषद द्वारा प्रोत्साहन / उपहार / 10000  रुपये प्रदान किये जाएंगे |
13. परिषद् का सदस्य बनने के लिए परिषद् का ऑनलाइन फॉर्म भरना जरूरी है| Online Registration Form
14. नोट: कृपया अपना BPP ID CARD प्राप्त करने के लिये Downloads पर जाये| तथा शुल्क जमा ना होने पर सुविधा / पद मान्य नहीं होगीं / होगा |
15. भारतीय प्रवासी परिषद भारत सरकार द्वारा U/S 80G (5) और आयकर अधिनियम 1961 के 12 ए सर्टिफिकेट प्राप्त संस्था हैं | आप अपनी इच्छानुसार समाजिक सहयोग के लिये दान कर सकते हैं | और दान की गई रकम का Income Tax छूट प्राप्त कर सकते हैं |
Why should I become a member / officer of the Indian Pravasi Parishad, here are some important points given below :
1. By registering yourself as a council member / officer, you can unite the nation and eliminate discrimination on the basis of racism, provincial / regionalism or religion and make a significant contribution to the integrity of the country.
2. As soon as you register as a member / officer of the Council, you can connect with all the current members of the country and abroad and the high officials of the Council.
3. As a council member / officer, you are staying anywhere in your area. Are connected to a group of expatriates / immigrants, and you feel a part of the community even when you are away from your hometown. Apart from this, many political leaders and social workers can try to connect with you because you become a majority.
4. In any state, more members of the workers and supporters can apply for the post of the Indian Pravasi Parishad. The election of the State President will be done in collaboration with the internal election.
5. The Central Dept. of the Indian Overseas Council provides you with other basic facilities for regional office, pay and day-to-day activities, if about two lakh members are prepared in the state by the state president. So that you can fulfill your common needs and meet the day-to-day activities of the Council without any hassle in your area.
6. By joining the council, you will feel organized / secure at any place in the country abroad and will cooperate with each other in any disaster or program.
7. The members of the council / office bearers may also get the schemes given by the Central Office to the Employment, Trade and Government of India.
8. Every worker of the Indian Overseas Council can lead the security of the immigrants living in every state of the country and the immigrants living abroad living in the same respect and equal rights.
9. Under the leadership of overseas resident / immigrant Indian citizen, the solution of the problems can be solved by joining the Indian Overseas Council or the Ministry of Overseas of the Government of India.
10. Organizing poor and needy women from your membership fee, providing self employment (cutting, tailoring, punting, beautician, computer etc.) and providing blood donation camps, road safety programs, ophthalmic program and cleanliness drive and women The main objective of the Council is to make self-reliant. And in that state, about 200 poor (handicapped / face-to-face and other) students will be given school fees, dress and other facilities by the council from class I to class eight.
11. If there is a 6 month old member of the Council in India, in any state of the country, if you need blood for some reason then your ID number A unit of blood will be provided for free. Validity of this facility will be valid for 18 months from the date of registration.
12. In order to increase the membership of migrants in the Council, if any member / worker / officer performs the task of adding nearly 1000 members. Then he will be given incentive / gifts / 10000 rupees by the Council.
13. To become a member of the council, it is necessary to fill the online form of the council. Online Registration Form
14. Note: Please go to Downloads to get your BPP ID CARD. If the fee is not deposited, the convenience / post will not be valid.
15. Indian Overseas Council is a recognized institution of U / S 80G (5) and Income Tax Act, 1961, by the Government of India. You can donate for social assistance as you wish. And you can get Income Tax exemption of the donated amount.

Interested in becoming part of the Parishad?

परिषद का हिस्सा बनने में दिलचस्पी है?

Online Registration